गुस्सा और तनाव से मुक्ति | Anger Management For Dummies Book Summary In Hindi

हेलो दोस्तों आज के इस टॉपिक में हम बात करेंगे agner management for dummies किताब की संक्षिप्त summary के बारे में, जिसमे हम सीखेंगे की गुस्सा हमारे लिए कितना घातक है जो हमारे साथ साथ हमारे आस-पास के लोगो के लिए भी सही नहीं है इस किताब में लेखक ने बताया है की कैसे आप अपने गुस्से पर काबू पा सकते हैं |

ये किताब हमे खासकर अपने गुस्से और तनाव को कण्ट्रोल करना सिखाती है की कैसे हम इसपर काबू पाए अगर आप इस किताब को ढंग से पढेंगे तो ये आप अपने गुस्से और तनाव पर काबू पा लोगे |

[Anger Management For Dummies in hindi | Anger Management For Dummies book in hindi | Anger Management For Dummies summary in hindi | Anger Management For Dummies book review in hindi]

Anger Management For Dummies Book Summary In Hindi :

सबसे पहले आपको खुद से सवाल पूछना चाहिए की क्या ये किताब आपके लिए जरुरी है? क्या आपको बहुत जल्दी गुस्सा आ जाता है? क्या आप अपने गुस्से पर काबू नहीं कर पाते हो? क्या आप अपने गुस्से और तावान से मुक्ति पाना चाहते हो?

तो दोस्तों ये बुक समरी आपके लिए काफी महत्वपूर्ण हैं |

दोस्तों इस किताब की लेखक charles H. Elliott और Laura L. Smith हैं दोनों ही पीएचडी होल्डर हैं और दोनों ही एक साइकोलोजिस्ट हैं और इन दोनों ने ही साइकोलॉजी, मेंटल हेल्थ के क्षेत्र में कई काम किये हैं |

Also Read : The power of habit book summary in hindi

यह किताब आपको क्यों पढनी चाहिए ?

आज के समय हम लोग इतने बिजी हो गये हैं की हमारे पास खुद के लिए और दूसरो के लिए बिलकुल भी समय नहीं है हम लोग हर समय पैसो के पीछे भाग रहे हैं हमे लगता है की सब कुछ पैसा ही है इसे हम कुछ भी खरीद सकते हैं जहाँ हम ये भूल जाते हैं की इसके अलावा हमारी पर्सनल लाइफ भी हैं हमे अपनी लाइफ में थोड़ी ख़ुशी और सुकून भी चाहिए यही पैसा और भागदौड़ भरी जिन्दगी ही गुस्सा और तनाव का मुख्य कारण बनी हुई है |

हमारा गुस्सा सिर्फ हमारे लिए ही नुकसानदायक नहीं होता है बल्कि ये हमारे फॅमिली, दोस्त और चाहने वालो के लिए भी ठीक नहीं है जो लोग हमेशा गुस्से और तनाव में रहते हैं हर कोई उनसे दूरियां बनाने की कोशिश करता है |

ये किताब हमे यही सिखाती है की कैसे हमे अपने गुस्से पर काबू पाना है और ये किताब ये भी सिखाती है की कैसे तनाव हमारे सेहत को खराब कर सकती हैं और कैसे हमे इन सभी चीजो से छुटकारा पाना है |

Also Read : Getting to yes book summary in hindi

गुस्से का सही प्रयोग कर इसे सही कामो में लगा सकते है :

सभी लोग जानते हैं की गुस्सा कितना घातक होता है फिर भी लोग गुस्सा करते रहते हैं गुस्से से हमारा ब्लड प्रेशर काफी बढ़ जाता है और इससे हमारे शरीर में कई घातक केमिकल निकलते हैं इसके साथ-साथ गुस्सा हमारे आस-आस के लोगो के लिए भी सही नहीं है |

गुस्से में रहते हुए इंसान कुछ भी गलत कदम उठा सकता है जिससे बाद में उसे पछतावा होने लगता है मान लो आपने अपने किसी करीबी पर गुस्से में हाथ उठा लिया तो सोचो उसके साथ आपका रिश्ता हमेशा के लिए खत्म हो जाएगा |

गुस्सैल स्वभाव वाले इंसान के साथ कोई नहीं रहता है वो कभी-कभी गुस्से में पागलो वाली हरकते भी करता हैं किसी का गुस्सा किसी और पर निकाल देते हैं |

इन सभी बातो से सभी को पता चल जाता है की गुस्सा कितना घातक है लेकिन अगर हम अपने गुस्से को अच्छे कामो में इस्तेमाल करें तो ?

मान लो कोई आपको बेवजह परेशान करता है तो आप उसे गुस्से में डांट सकते हो और अगर कोई बहुत बड़ी गलती कर देता है तो उस समय भी आप उसे डांट सकते हो क्योकि ऐसे लोग आपकी शराफत का फायदा उठाते हैं |

अपने गुस्से पर काबू पाने के लिए उसके लक्षण पर ध्यान दो :

जब आपको गुस्सा करने की आदत हो जाती है तो आपक उसके लक्षण को भी पहचानने लग जाते हो जिससे अपने गुस्से को काबू कर पाना आसान हो जाता है |

कभी-कभी गुस्से में रहकर खुद को कण्ट्रोल कर पाना मुश्किल होता है क्योकि आप अपनी भावनाओं में इतने बह जाते हो की उस परिस्थिति में आप कुछ गलत कर बैठते हो |

इन सभी बातो से पहले आपको जान लेना चाहिए की गुस्से के क्या-क्या लक्षण हो सकते हैं आखिर ऐसा क्या होता है जब आप गुस्से में होते हो ?

ऐसे वक्त में हमारी साँसे तेज हो जाती है, हमे पसीना आने लगता है, हमारा चेहरा लाल और शरीर कांपने लगता है और हम दांतों को दबाकर चिल्लाते हैं |

अगर ऐसे लक्षण आपने अंदर हैं तो समझ लो आपको बहुत ज्यादा गुस्सा आता है और इसे आपको किसी भी हाल में काबू करना है |

Also Read : Activate Your brain book summary in hindi

गुस्से और तनाव को काबू करने का टिप्स :

  • अगर गुस्सा काबू करना है तो कुछ अच्छा करने की कोशिश करें जैसे आप किसी की हेल्प कर सकते हैं और कुछ अच्छा सोचने की भी कोशिश करें |
  • आप डेली routine में कुछ small एक्टिविटी भी कर सकते हैं जैसे 100 से उल्टी गिनती करना, किसी के चेहरे के धब्बे गिनना |
  • कुछ शारीरिक क्षमता वाले काम कर सकते हैं और अगर आप ट्रैफिक में फंसे हो तो म्यूजिक सुन सकते हो |
  • इसके अलावा कुछ भी ऐसा काम जिससे आपका ध्यान इधर-उधर हो सके |

हद से ज्यादा सोचने का कारण भी गुस्से की वजह होती है :

कभी-कभी जीवन में कुछ ऐसी घटनाएं हो जाती हैं जिन्हें सहन कर पाना मुश्किल होता है अगर हम उसे सुधराने की कोशिश करें तो हम और ज्यादा गुस्सा हो जाते हैं |

ऐसी बातो को बार-बार सोचने से हमे और गुस्सा आता है और फिर इसपे काबू पाना मुश्किल हो जाता है जब भी हम ऐसी बातों को बार-बार सोचते हैं तो हमारा गुस्सा भी बढ़ते जाता है |

जरा सोचो आप ऑफिस जाते समय लेट हो गये तो आपका बॉस आपको डांट भी सकता है जिसके डर से आप ये बार-बार सोचोगे की अब मेरा क्या होगा और इस हालात में आप काफी गुस्से में भी हो सकते हैं |

और फिर जब आप ऑफिस से घर वापस आओगे तो आप अपने फॅमिली के साथ भी गुस्से में रहोगे और सोचोगे की आप का दिन बहुत बुरा गया है |

जब भी आपको इस तरह से गुस्सा आता है तो आप कुछ समय के लिए आत्ममंथन करे और सोचो की आखिर किन-किन चीजो से आपको गुस्सा आया और फिर उसे सुधारने की कोशिश करें, इस तरह से आप अपने गुस्से से छुटकारा पा सकते है |

Also Read : the defining decade book summary in hindi

अपने गुस्से पर काबू पाना सिर्फ आपके हाथ में है :

जब भी कोई व्यक्ति आपके साथ झगडा या बहस करता है तो वे लोग ये नहीं देखते हैं की आप कौन हैं वे सिर्फ ये देखते हैं की वे कौन हैं ?

ऐसे व्यक्तित्व वाले लोग अपने असली रूप को सभी के सामने दिखाते हैं इसीलिए जब भी आपके साथ ऐसा कुछ भी हो तो आपको हर समय शांत रहने की कोशिश करना है |

जब भी कोई आपके साथ ऐसा बर्ताव करे तो आप उसके सामने से दूर जा सकते हैं अगर आप वहां से दूर नहीं जाओगे तो एक वक्त में आप अपना गुस्सा खो देंगे |

इन सभी बातों के अलावा हम अपनी पुरानी बातों को याद करके भी अपने गुस्से को बढाते हैं पुरानी यादे हमेशा जले में नमक छिडकने का काम करती हैं इसीलिए अपने दिमाग से ऐसी पुरानी यादो को निकाल लो |

अगर आपको अपनी पुरानी यादो से तकलीफ होती है तो इसे आप अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कर सकते हैं क्योकि दुःख बाटने से दर्द कम होता है |

ज्यादा तनाव लेना आपके गुस्से का कारण बनती है :

गुस्से का सबसे मुख्य कारण तनाव ही है और तनाव में रहना बिलकुल भी सही नहीं है क्योकि इसमें आप परेशानी में ना रहते हुए भी हर बार तनाव में रहते हैं और ऐसे में आपके अंदर चिड़चिड़ापन आ जाता है |

तनाव मुख्य रूप से दो प्रकार के हो सकते हैं बड़े तनाव और छोटे लेवल के तनाव |

बड़े तनाव में मानो आपको नौकरी खोने का डर, पैसो की तंगी, कोई गंभीर बिमारी जैसी अवस्था होती है और छोटे लेवल के तनाव में आपको छोटी-छोटी बातों को लेकर भी परेशानी होती है जोकि तरह का तनाव होता है |

अब चाहे बड़ा तनाव हो या छोटा तनाव, दोनों ही हमारे लिए ठीक नहीं होता है |

Also Read : The psychology of persuasion book summary in hindi

हर रोज छोटे-छोटे काम करके भी आप तनावमुक्त हो सकते हैं :

जब भी आप सो नहीं पाते हैं और कुछ भी काम नहीं करते हैं तो इससे आपके दिमाग में कई तरह के ख्याल आते हैं जिससे आप तनाव में चले जाते हैं और यही तनाव आपके गुस्से का कारण बनती है |

कम सोने की वजह से आपमें चिड़चिड़ापन आ जाता है और आप डेली routine में कुछ भी अच्छा काम नहीं कर पाते हैं |

तनाव और गुस्से से खुद को दूर रखने के लिए आपको दिनभर व्यस्त रहना चाहिए इससे आपका दिमाग फिजूल की चीजो को नहीं सोचेगा |

Final Word :

दोस्तों गुस्सा और तनाव आपके हेल्थ के लिए ठीक नहीं है इससे आपका इम्यून सिस्टम कमजोर होता है और ब्लडप्रेशर, ब्रेन हेमरेज, हार्ट अटैक, स्ट्रोक जैसी बिमारी हो सकती हैं |

गुस्से पर काबू पाना है तो इसके लक्षणों को पहचानो और इससे हमेशा दूर रहो |

दोस्तों anger management for dummies book को पढ़कर क्या आपका गुस्सा और तनाव कम हो जाएगा ?

अगर आपको भी अपना गुस्सा और तनाव कम करना है तो आपको ये किताब जरुर पढनी चाहिए |

मेरा नाम vikram mehra है मै उत्तराखंड का रहने वाला हु मैंने अपनी कॉलेज की पढाई B.sc से की है और मै अपने इस ब्लॉग में लोगों को एक्सक्लूसिव जानकारी देता हु और ऐसा करना मुझे बहुत अच्छा लगता है

Leave a Comment